Wednesday, May 25, 2011

मुल्ला जी का लाइन में लगना

अक्सर देखा गया है कि हम लोग जो भी देखते, सुनते ,पढ़ते हैं उसका अर्थ अपने ही विचारों के अनुसार लगा लेते हैं जैसा उस दिन हमारे मुल्ला जी के साथ हुआ ..

हुआ यूँ कि एक दिन विनेश जी ने देखा कि मुल्ला जी बस स्टेंड पर बस का टिकेट लेने के लिए लाइन में लगे हुए हैं ..विनेश जी चौंक गए कि ये अचानक से मुल्ला कहाँ जा रहा है !! गए लपकते हुए मुल्ला जी के पास और बोले - यार मुल्ला कहाँ की तैयारी है ?

मुल्ला जी बोले - अरे मास्टर ! अच्छा हुआ तू मिल गया, अभी मैं तेरे ही बारे में सोच रहा था कि कैसे खबर करूँ तुझे ...

विनेश जी बोले - क्या हुआ भाई ? ऐसी क्या ख़ास बात हो गयी ?

मुल्ला जी बोले - देखो ना ये हमारी सरकार ..हम जैसे लोगों के लिए कितनी सुविधाएं मुहैया कराती है ..अब तो हम जैसों के लिए बस टिकेट काउँटरस पर भी इंतजाम कर दिया है ..मैं बस तुझे ही याद कर रहा था ..चल आजा तू भी लग जा लाइन में ..

विनेश जी बोले - लेकिन यार लाइन में क्यूँ लगा है तू ..कहाँ जाना है तुझे ..?

मुल्ला जी बोले - जाने का तो पता नहीं ..जहाँ भेज दिया जाएगा चले जायेंगे अपन का क्या .. पर लाइन में तो लग ना तू ..

विनेश जी बड़े असमंजस में , बोले - मुझे कहीं नहीं जाना ..मैं क्यूँ लगूं लाइन में? और तू भी कैसी बहकी बहकी बातें कर रहा है ..अरे टिकेट लेने से पहले ये तो पता होना चाहिए कि कहाँ जाना है ...

मुल्ला जी बोले - अरे मास्टर ..बड़ा पढ़ा लिखा बनता है ..हर समय ज्ञान की बातें .. जरा आँखें खोल के पढ़ भी लिया कर कि कहाँ क्या लिखा है .. देख टिकेट विंडो के ऊपर क्या लिखा है ...

विनेश जी ने टिकेट विंडो पर देखा तो वहां दो बोर्ड लगे थे एक ही सीध में

" महिलाओं के लिए "..." कृपया लाइन में आयें "

और हमारे मुल्ला जी उसे एक साथ पढ़ गए थे ..:) :) :)

Wednesday, March 30, 2011

मुल्ला नसीरुद्दीन की धारणा

#######

इन्सान अपनी कमाई हुई , जुटाई हुई या उधार ली हुई धारणाओं में जीने का आदी है .कहीं कुछ पढ़ लिया या किसी ने कुछ किसी के बारे में बता दिया तो बना ली धारणा अपने मन- मस्तिष्क में और फिर वह धारणा बदलना कई बार नामुमकिन सा हो जाता है. हर कोई अपनी धारणा को सही मान कर दूसरे को गलत साबित करने पर तुल जाता है और नतीजा होता है तर्क-कुतर्क ..अपनी गढ़ी हुई परिभाषाओं के मुताबिक हालात को उसी खांचे में फिट करने का रवैय्या होता है हम सभी का मगर हमारे मुल्ला जी जैसे जागरूक इन्सान अपने तुज़ुर्बों पर ही भरोसा करते हैं ..किसी के कहे सुने से नहीं उनकी धारणाएं अपने खुद की भोगी हुई हकीक़तों पर डिपेंड करती हैं अब पिछली होली का ही किस्सा सुनिए ..


मुल्ला जी अपने यार दोस्तों के घर खूब पकवान उड़ा कर आये .. अपने बूते से ज्यादा दारू, गोश्त और मिठाईयां भर ली पेट में .. कौन रोज रोज मौका मिलता है ..नोर्मल दिनों में तो दोस्त लोग दूर से देख कर दरवाजा बंद कर लेते हैं त्यौहार पर तो लिहाज करना ही पड़ता है उन्हें ..तो मुल्ला जी ने भी मौके का फायदा उठाया और बेहिसाब पेट भराई कर ली .कुदरतन उनके नाज़ुक पेट ने जवाब दे दिया .. मुल्ला जी टायलेट के चक्कर लगते लगते अधमरे हो गए ...और आखिरकार उन्होंने बिस्तर पकड़ लिया ..घर में कोहराम मच गया ..बीवी और आधा दर्जन बच्चे उनके बिस्तर को घेर कर उनके चुसे गन्ने से जिस्म को यूँ निहार रहे थे जैसे कि उनके आखिरी दीदार कर रहे हों ..तभी किसी दोस्त ने डॉक्टर को बुलाने की सलाह दे डाली ...मुल्ला ने बेहोशी की सी हालत में सुना कि डॉक्टर कह रहा था आपने मुझे बुलाने में बहुत देर कर दी.. मुल्ला जी तो अब चंद घंटों के मेहमान हैं ..छ: बजते बजते दुनिया से कूच कर जायेंगे ..रोना पीटना मच गया साहब .. मुल्ला जी की बेगम गाली दे दे कर मुल्ला को कोसती .." इतना मना किया था मरदूद को , इस भकोसने की आदत को छोड़ने के लिए कितनी बार समझाया मरे को लालच लगा था .हाय!! मैं इन नासपीटे छ: बच्चों के साथ कहाँ जा कर मरूंगी .. मेरी तो जिनगी बरबाद कर दी ..हाय ..हाय !! " ..छाती पीट पीट कर मुल्ला की बेगम ने वो दहाड़ें लगायी कि पूरे मोहल्ले में यह खबर फ़ैल गयी कि मुल्ला जी खुदा को प्यारे हो गए .. बच्चे भी सातवें सुर में अपनी अम्मी से छेखने चिल्लाने का मुकाबला कर रहे थे ..पूरा माहौल मातमी हो गया था .. मोहल्ले वाले भी आ करतसल्ली देने लगे और अपनी हमदर्दी ज़ाहिर करने लगे .." अच्छे आदमी थे मुल्ला जी .. इतने शरीफ कि बस पूछो ही मत ..क्या मजाल जो कभी किसी को बुरी नज़र से देखा हो .."

मुल्ला जी के कानों में सब बातें पड़ रही थी .. मुल्ला जी हैरान थे कि ये मोहल्ले वालों के सुर अचानक बदल कैसे गए ..हर जगह घुड़की खाने वाला मुल्ला आज इतना शरीफ कैसे दिख रहा है इनको.. और तब मुल्ला को एहसास हुआ कि मुल्ला जी खुदा को प्यारे हो गए हैं .. और इसीलिए इन्सान के भी प्यारे हो गए हैं ..इन्सान ऐसी हिमाकत कैसे कर सकता है कि खुदा को प्यारे हुए इन्सान की बुराई करे ..पूरा माहौल जोर शोर से एलान कर रहा था कि मुल्ला जी फौत हो गए हैं हैं ..मुल्ला जी भी आँख बंद करके पड़ गए और उन्होंने मान लिया कि जो कुछ मैं देख सुन रहा हूँ,वो मेरा जिस्म छोड़ चुकी मेरी रूह ही देख सुन रही है .. ..और मुल्ला जी ने कुरान की आयतें बुदबुदाना शुरू कर दिया ..और बीवी से कहा कि मौलवी को बुला लो ..बीवी ने घुड़क दिया कि मर कर भी चैन नहीं है तुम्हें ..चुपचाप पड़े रहो अब तुम मर चुके हो जो करना है हम कर लेंगे ..
मुल्ला जी बेचारे चुप हो कर पड़ गए ..धीरे धीरे सारी रस्में होने लगी मुल्ला जी की मय्यत तैयार हुई ..जब उनके अंतिम संस्कार के लिए मोहल्ले के कुछ लोग उनके पास आये तो उनको एहसास हुआ कि मुल्ला जी की सांसें तो चल रही हैं ..उन्होंने कहा कि मुल्ला जी तो जिन्दा हैं भाई.. इनको कैसे दफना सकते हैं हम
डॉक्टर से पूछा गया ..डॉक्टर बोला-" हाँ भाई मुल्ला जी तो जिन्दा हैं ..मौत की घडी टल गयी ..मुल्ला जी बच गए" ..मुल्ला जी को कहा गया कि आप बच गए बधाई हो ..मगर मुल्ला जी तो महसूस कर चुके थे मौत का.. बोले नहीं भाई मैं तो मर चुका हूँ अब मेरा इस दुनिया से कोई नाता रिश्ता नहीं .."
सब बहुत हैराँ परेशान हो गए ..मुल्ला जी ना खाना खाएं ना दवा पियें ..बार बार कहें कि मरे हुए आदमी को क्या खाना और क्या दवा ..मैं तो मर चुका हूँ ..किसी को समझ नहीं आ रहा था कि उनको कैसे यकीन दिलाएं कि वे जिन्दा हैं ..मुल्ला को आईना दिखाया कि देखो तुम्हारा अक्स दिख रहा है ना इसका मतलब तुम जिन्दा हो ..लेकिन मुल्ला बोले कि यह तो मेरा जिस्म है मेरी रूह इसको देख रही है जो अलग हो चुकी है इस जिस्म से ...ये तो मुल्ला के मरने से भी ज्यादा बड़ी मुश्किल हो गयी कि मुल्ला को उसके जिन्दा होने का यकीन कैसे दिलाया जाए .. आखिरकार डॉक्टर साहब को एक तरीका सूझा ..उन्होंने मुल्ला से पूछा कि मुल्ला तुम जानते हो ना कि मरे हुए आदमी के जिस्म को काटो तो खून नहीं निकलता ..मुल्ला बोले हाँ साहब बिलकुल जानता हूँ ..तो डॉक्टर साहब ने मुल्ला के हाथ में नश्तर से एक घाव किया और उसको आईने में दिखते अक्स से टपकता हुआ खून दिखाया ..और कहा देखो मुल्ला तुम्हारे जिस्म से खून टपक रहा है ..इसका क्या मतलब हुआ ??

मुल्ला बोले- हाँ डॉक्टर साहब ..बिलकुल सही ..मेरे जिस्म से खून टपक रहा है ..इसका ये मतलब हुआ ..कि मरे हुए आदमी के जिस्म से भी खून निकल सकता है.. अभी तक आप सबको ग़लतफ़हमी थी कि मरे हुए आदमी के जिस्म से खून नहीं निकलता ..मगर आज यह साबित हो गया है कि मुर्दा जिस्म से भी खून निकल सकता है ...डाक्टर साहब इस पर तफसील से लिखिए और मेडिकल इंस्टिट्यूट में पेपर पेश कीजिये ..आप भी क्या याद रखेंगे कि मरते मरते भी मुल्ला एक सच को जग ज़ाहिर कर गया ..!!!

Sunday, March 6, 2011

भय का भूत -मुल्ला नसीरुद्दीन का दर्शन

######

एक बार की बात है ,मुल्ला जी अपने यार दोस्तों के साथ फिलम का आखिरी शो देखने के बाद और चिलम गांजे केसुट्टे लगाने के बाद अफीम की पिनक में घर की तरफ़ जा रहे थे ...अपने में मगन मुल्ला फिलम का कोई गीतगुनगुनाते हुए जा रहे थे .."मुल्ला बदनाम हुआ फजीहत तेरे लिए " टाइप .....इतने में उन्हें लगा कि कोई उनकापीछा कर रहा है ..चौंक के इधर उधर देखा तो नीम अँधेरा .. हाथ को हाथ न सूझे ..सिहरन सी दौड गयी मुल्ला केपूरे शरीर में...

झींगुरों की आवाज़. कहीं कहीं मेंढकों की टर्राहट और अँधेरे में चमकते जुगनुओं की रोशनी में पेड़ों के साये.. बहुतभयावह लग रहे थे ...मुल्ला की टांगें कांपने लगीं ..तभी उनके कानो में कुछ आवाजें पड़ी... दिल की धडकन कोरोकने की नाकाम कोशिश करके मुल्ला ने कान लगा दिए उन आवाजों पर...ऐसा लग रहा था की २०-२५ लोगों काझुण्ड उनकी तरफ़ बढ़ा आ रहा है... आवाज़ के लहकने से अंदाज़ा लग रहा था कि सबने दारू चढाई हुई है... मुल्लाने आँखें गड़ा गड़ा के देखा .. अब तक मुल्ला की नज़रें इस अँधेरे की अभ्यस्त हो चली थी... मुल्ला से १५-२० हाथकी दूरी पर
कुछ लोग सर पे साफा बांधे हुए ..कुछ एक के हाथों में बन्दूक ..हँसी ठठ्ठा करते चले आ रहे हैं..मुल्ला जी ने तुरंतनिष्कर्ष निकाला ..भैया आज तो फँस गए तुम "डकैतों' के चंगुल में... डर के मारे मुल्ला के होश फाख्ता हो गए..

वैसे लुटे जाने लायक कोई वस्तु मुल्ला के पास नहीं थी.... यहाँ तक कि अचकन भी उधार की पहने हुए थे मुल्ला.. लेकिन डकैत तो डकैत ... न उनका धर्म न ईमान.. गोली से उड़ाते देर नहीं लगेगी ..मुल्ला को अपनी कमसिन बीवीऔर ५ अदद बच्चों का खयाल आया .. और आनन फानन में मुल्ला सड़क के किनारे बनी एक चारदीवारी कोफलांग गए ..उनको चारदीवारी फलांगते उस झुण्ड में से एक आदमी ने देखा... और उनकी झोला सी अचकन को नाजाने क्या समझ के उसकी भी घिघ्घी बंध गयी.. हकलाते हुए उसने अपने बाकी साथियों को बताया .. सभी हल्लामचाते हुए उस चारदीवारी को कूद गए ...एक के पास दियासलाई थी..उसने एक तीली जलाई तो पाया कि वो एककब्रिस्तान है ...

अपने को बहुत दिलेर कहने वालों की भी रीढ़ की हड्डी सुन्न होने लगी...मुल्ला को काटो तो खून नहीं ..आँख बंदकरके मुल्ला ने कुरान की आयतें पढ़ना शुरू कर दिया.... झुण्ड में सबने एक दूसरे को चुप रहने का इशारा कियाऔर कहा देखो..कोई मुसलमान है .... इतने में मुल्ला जी ने महावीर विक्रम बजरंगी... बोलना शुरू कर दिया ..झुण्डमें सभी ने एक दूसरे को देखा और बोले नहीं भाई ये तो हिंदू है... मुल्ला हमारे धर्म निरपेक्ष ..ऐसे बुरे समय में वैसेभी कोई रिस्क नहीं लेना चाहते थे ...उन्होंने नानक नाम जहाज है बुदबुदाना शुरू किया और अंत में ..ओ' जीससओ' मेरी ...पढते हुए.. सीने पर क्रॉस का चिन्ह भी बना लिया ..

ये सब सुन कर उस पूरे समूह में भय की लहर दौड गयी... उनको लगा कि आज तो कोई आत्मा भटक रही है यहाँआत्मा का कोई धर्म नहीं होता ..ऐसा सभी ने सुना था ) ..माचिस की तीलियां जला जला कर अब खतम होने कीओर थी... उधर हमारे मुल्ला जी भी अँधेरे में छुपने की कोशिश में थे कि अचानक एक ताज़ी खुदी कब्र में जा गिरे.. जिसमें अगले दिन सुबह ..उनके पड़ोसी लड्डन मियां के शरीर को दफनाया जाना था जिनका आज ही इन्तेकालहुआ था ...अब मुल्ला जी डर वर सब भूल गए और चिल्लाने लगे जोर जोर से.... बचाओ बचाओ!!....

तभी उस भीड़ में से भी एक शरीर धडाम से मुल्ला जी के ऊपर आके गिरा ..और वो उन्हें मरा हुआ शरीर समझचिल्लाने लगा ..अचानक मुल्ला जी बोले- अरे मियाँ जुम्मन...तुम यहाँ ?तुम तो कल्लन मियाँ की शादी में गए थेन बाराती बन कर !!!

जुम्मन भाई भी मुल्ला जी को पहचान गए .. बोले- वहीँ से तो लौट रिये हैं हम सब.... मुल्ला तुम यहाँ क्या कर रहेहो....

मुल्ला जी ने कहा ..भाई जो तुम कर रहे हो... तुम्हारे कारण मैं और मेरे कारण तुम इस कब्र में पड़े हैं.... !!!

मुल्ला जी ने बातों ही बातों में एक गूढ़ दार्शनिक रहस्य प्रस्तुत कर दिया था

.. ..(

पांच या पांच लाख - बकौल मुल्ला नसीरुद्दीन


########

मुल्ला जी की कई खूबियों से आप लोग परिचित है .उनकी तर्क शक्ति ,उनका दर्शन सभी को हमने जाना समझा हैसमय समय पर प्रस्तुत उनके कई किस्सों द्वारा ..आज उनकी एक खास खूबी का मैं जिक्र करना चाहूंगी जिसकेकारण मुल्ला जी की बेगम उन पर सौ सौ जान न्यौछावर रहती हैं..और वह है - किसी भी वस्तु को देख कर तुरंतउसकी असलियत को ताड़ लेना ..इसके चलते बाजार हाट का काम मुल्ला जी के ही जिम्मे गया है क्यूंकि वेकिफायती दाम में बेहतरीन माल ले कर आते हैं इस व्यवसायिकता के दौर में ..सब्जी मंडी जायेंगे तो सबसे ताज़ीसब्जी सबसे कम दामों पर ले कर आयेंगे ..जहाँ इतना कॉम्पिटीशन है बाजार में कि असल कौन और नक़ल कौनवहाँ इस तरह की नज़र होना खुदा की नेमत ही तो है

अक्सर देखा जाता है कि लोग किसी भी वस्तु /व्यक्तित्व का अंदाज़ा उस पर लगे प्राईज़ टैग से करते हैं जैसे कुछखरीदने जायेंगे तो गुणवत्ता को कीमत से आंकेंगे..या किसी का रहन सहन किस स्तर पर है उससे उसके व्यक्तित्वका अंदाज़ा लगाएंगे ...किसी पोश इलाके में रिहायिश है आपकी तो आपका स्तर ..किसी मोहल्ले में रहने केआपके स्तर से अलग हो जाएगा ..ऐसे ही किसी की बुद्धिमत्ता को उसके नाम के साथ लगी डिग्रियों से आंका जाताहै ..किसी की पॉपुलैरिटी उसके गुणों के कारण नहीं उसके पीछे लगी भीड़ के कारण होती है ..जैसे अपने अंतरजालपर कम्यूनिटीज़ और ब्लॉग में ..किसी की मेधा और सृजनशीलता को उसकी रचनाओं पर मिली टिप्पणियों औरफोलोवर्स की लंबी लिस्ट से आँका जाता है..कहने का तात्पर्य यह कि किसी के व्यक्तित्व को जानने के लिएअधिकतर लोग आंकड़ों का सहारा लेते हैं

एक परिचिता हैं मेरी ..उनकी बातें कभी पांच सितारा होटल के खाने से नीचे होती ही नहीं ..जब भी मिलना होता हैउनका बखान शुरू हो जाता है..गन्ने का रस भी पीती हैं तो पांच सितारा होटल में ही पांच सौ रूपये प्रति गिलास केहिसाब से ..साथ में अंग्रेजी का जुमला -

"oh !! I love sugarcane juice with a dash of black salt ,few drops of lemon, ginger and a teaspoon full of vodka in it .."

जैसे पांच सौ रुपयों का होने से गन्ने का स्वाद बदल जाता हो ...
अक्सर देखा है उनको गिफ्ट में देने का सामान छोटी दुकानों से ले कर उसके प्राईज़ टैग में आगे एक या पीछे जीरोबढ़ाते हुए ..और फिर किसी नामी दुकान के कैरी बैग में पैक करते हुए .. गिफ्ट का स्तर कोई भी हो पैकिंग सेइम्प्रेशन पड़ना चाहिए ...

हमारा शहर जरदोजी के काम के लिए मशहूर है ..और यहाँ की बनी साड़ियां और सूट्स बड़े बड़े शहरों में जाते हैंबड़े बड़े शोरूम्स पर ,जहाँ जाते ही उनके प्राईज़ टैग दुगुने तिगुने हो जाते हैं ..
एक बार मैंने अपनी उन्ही परिचिता को अपने शहर से खरीदी हुई एक साड़ी दिखाने से पहले उसके प्राईज़ टैग मेंएक शून्य बढ़ा दिया ... पचीस सौ की जगह पचीस हज़ार ...बस उसके बाद उस साड़ी की तारीफ में उनकीईर्ष्यामिश्रित टिप्पणियां मुझे उनके पूरे व्यक्तित्व का उल्लेख करती गयी ..ज़रा सैम्पल देखिये ..- " साड़ी तो सुन्दरहै ..लेकिन थोड़ा महंगी है ..पिछली बार मैं ऐसी ही साड़ी लायी थी बाईस हज़ार में ..कपडा बिलकुल यही था ..बल्किकढाई इससे कुछ ज्यादा ही रही होगी .. तुमने कहाँ से ली.". मैंने कहा बेनज़र से ( सुना है कोई बड़ा शो रूम है मुंबईमें ) ..उनका उवाच था -ओह !! बेनज़र वाले तो लूटते ही हैं.. हाँ लेकिन वहाँ से लेने में तसल्ली रहती है कि चीज़अच्छी मिलेगी ..थोड़ा पैसा ज्यादा है तो क्या हुआ ..भाई मुझसे तो ये छोटी दुकानों से शोपिंग करी नहीं जातीकितना घटिया होता है वहाँ का सामान.."

मैंने कहा कि मुझे तो लगता है कि कई बार एक ही सामान की सिर्फ दुकानों के बदलने से कीमत बढ़ जाती हैडिपेंड करता है कि खरीदार का स्तर क्या है ..जैसे हमारे मुल्ला जी ..."
ओह!! विषय से भटक गयी थी लेकिन गनीमत है वापस पहुँच गयी मुल्ला जी की खरीदारी स्किल पर तो साहबहुआ यूँ कि हमारे मुल्ला जी .. एक बार एक १५ माले की बिल्डिंग में जाने के लिए लिफ्ट में चढ़े .. जैसे ही लिफ्ट कादरवाज़ा बंद होने को था ..एक महीन सी आवाज़ आई रुकिए प्लीज़.. और मुल्ला जी ने डोर ओपन का बटन दबादिया एक लिपी पुती शोख सी महिला लिफ्ट में एंटर हुईं मुल्ला जी को अपनी कटीली मुस्कुराहट से घायल करतीहुई बोलीथैंक्स ...
मुल्ला जी की पारखी नज़रों ने उनका निरिक्षण परिक्षण शुरू किया ॥यत्न से संवारा गया बदन ..कसा हुआ बिनाबाँहों का लो कट ब्लाउज़ नाभि दर्शना पारदर्शी साड़ी , ब्यूटी पार्लर में दक्ष हाथों द्वारा यत्न से तराशा नैन नक्शमेकअप की इतनी परते कि उनका असल रंग कहीं छुप गया था ..

अंग प्रत्यंग पर अच्छी खासी मेहनत की गयी थी ..लगता था कुशल चिकित्सक के हाथों शरीर के उभारों औरकटावों को व्यवस्थित कराया गया था राखी सावंत के मानिंद ,मतलब पुरुषों को रिझाने के सभी हथकंडे अपनाए हैंइस शालीन नारी ने ...जिस तरह शोरूम वाले डिस्प्ले पर शोकेस में ग्राहक को आकर्षित करने के लिए खूबसूरतआईटम्स लगाते हैं ..राह चलते लोगों को भी रुक कर विंडो शोपिंग में मज़ा आता है

मुल्ला जी के मुंह से बेसाख्ता निकल गया .."आहा !!क्या सौंदर्य है ..अप्सराओं को भी मात करने वाला ..."

सुन कर महिला मन ही मन इठलाई ..किन्तु प्रकट में मुल्ला जी को घूर कर बोली - ' क्या अंट -शंट बक रहे हो जीशर्म नहीं आती एक गैर महिला पर टीका टिप्पणी करते हुए .."

मुल्ला ने मन में सोचा - "गैर पर नहीं करूँ तो क्या अपनी पर करूँ ..जो २४ घंटे चंडी बनी रहती है " ,
प्रकट में बोला - अंट -शंट नहीं बोल रहा हूँ जी... और अगर गैर की मुश्किल है तो अपनी बना लेता हूँ ,एक रात केलिए ..”

महिला आग बबूला हो गयीबोली –“शर्म नहीं आती ,भली औरतों पर बुरी नज़र डालते हुए , अभी पोलिस मेंशिकायत कर दूँगी
मुल्ला बोला –“ कोई चोर उचक्का नहीं हूँ जी जो कहता हूँ उसकी पूरी कीमत देने को तैयार हूँ .. एक रात को मेरीबन जाओ पांच लाख रूपये में ..बोलो क्या कहती हो !!"

महिला एक दम पिघल गयी ..पांच लाख रूपये कम नहीं होते ,सुन के कोई भी पिघल जाए..बोली - ठीक है बताओकहाँ रहते हो ...? "

मुल्ला बोले - ' वो तो बाद में बताऊंगा .. फिलहाल ये जान लो कि मेरे पास अभी सिर्फ पांचरूपये हैं .."

अब महिला भड़क गयी - बोली- "तुमने मुझे समझा क्या है... ?? इतनी नीच बात कहने की हिम्मत कैसे हुईतुम्हारी !!"

मुल्ला जी बोले - " मोहतरमा , तुम्हें जो समझना था वो तो मैं समझ चुका...मामला अब औकात बताने का नहीं वोतो जान ली है , पांच लाख में बात नीच थी और पांच रु में वही बात नीच हो गयी..अब बात के ऊंचे नीचे होने कासमय गया .. अब तो बस मोल भाव कर रहा हूँ...!!"

मुल्ला जी हमारे पारखी ग्राहक ...महिला की असलियत का अंदाज़ा उन्हें लग चुका था ..:) .. .. , ..

Wednesday, March 31, 2010

है तुझे भी इजाज़त....(समापन किस्त )

रेवती अब अपने को एक नयी नज़र से देख पाने में सक्षम हो रही थी.एक बेटी,बहन, पत्नी और माँ से हट कर एक स्त्री के रूप में..अपनी भावनाओं का अवलोकन करना और उनसे जुड़े द्वन्द का समाधान करते हुए उन सोचों उबरना उसको ऐसा लगता था जैसे एक एक सीढ़ी चढ़ती हुई वह अपनी मंज़िल की तरफ बढ़ी जा रही है ..उसके द्वंदों का समाधान करने में चंद्रप्रभा जी का बहुत बड़ा योगदान था.आत्मीयता का रिश्ता तो उनसे पहले दिन ही जुड़ गया था जो अब अंतरंगता पर पहुँच चुका था ..कई सवालों के जवाब रेवती को पुस्तकों में मिल जाते थे तो कई का चिंतन मनन वह चंद्रप्रभा जी से करती थी ..जिसमें से एक था रजत के प्रति उसका जुडाव जिसे रेवती समझ नहीं पाती थी कि उम्र के इस पड़ाव पर यह कैसा जुडाव महसूस हो रहा है और क्यूँ ..चंद्रप्रभा जी ने उसकी इस दुविधा का समाधान करते हुए उसे समझाया-रेवती,भावनाएं उम्र की मोहताज नहीं होती..युवा महसूस करना शरीर का नहीं आत्मा का एहसास है ..तुम्हारे एसेंस को रजत ने छुआ है..वो कोमल भावनाएं जो वक़्त की गर्द में कहीं दबी पड़ी थी उन तक उसके स्पंदन पहुँच गए हैं..और तुम प्रेममय महसूस कर रही हो..बेसिकली प्रेम तो तुम्हारे अन्दर ही था रजत के होने से उसका एहसास तुम्हें हो गया है..अपने जीवन के हर क्षण का स्वागत करो और कृतज्ञ महसूस करो कि तुमने प्रेम को महसूस किया है उसका आनंद लो .ओशो ने कहा है -"पुरुष और स्त्री भिन्न हैं , स्त्री का सम्बन्ध मन की गहराईयों से होता है ....उसके व्यक्तित्व को तो काव्य की गहराईयों और काव्य की अनबूझ ऊँचाइयों तक ले जाने की ज़रुरत है . स्त्री याने प्रेम ." अब जब तुम अपने अन्दर की स्त्री को पहचानने लगी हो तो प्रेम तो प्रस्फुटित होगा ही..उस भाव का दमन करके तुम ईश्वर का अपमान करोगी.. .भावनाओं का दमन करके इंसान सोच लेता है कि उसने भावनाओं पर काबू पा लिया है पर होता इसका उल्टा ही है ..दमित भावनाएं इंसान को अपना दास बना लेती हैं..और हर पल इंसान उनसे बंधा हुआ महसूस करने लगता है.अंततः: वो दमित भावनाएं विकारों में परिवर्तित हो जाती हैं .यह तुम जो इतने ऊहापोह में हो वह इसलिए कि तुमने खुद इसको स्वीकार नहीं किया है..अपनी भावनाओ को वैसे ही देखो जैसे कोई चलचित्र परदे पर चल रहा हो..कुछ क्षण के लिए चलचित्रों के किरदारों से हम जुड़ा हुआ महसूस कर सकते हैं पर होते तो पृथक ही हैं ना..तुम अपनी भावनाओ को साक्षी भाव से देखोगी तो उनसे पार हो जाओगी. तब यह ग्लानि जो इस समय तुम्हारी कंडिशनिंग आफ माईंड के कारण तुम्हें महसूस हो रही है इससे उबर जाओगी ..प्रेम संकुचन नहीं विस्तार देता है..अपने अन्दर प्रस्फुटित इस प्रेम का विस्तार करो.. उसको एक व्यक्ति विशेष के कारण घटित प्रेम ना समझ कर ईश्वर की तुम पर हुई कृपा समझो.. और ईश्वर की बनायीं इस दुनिया में उसको बांटो..देखना कितना सुकून मिलता है..भय,क्रोध,अहंकार,सब तिरोहित हो जाते हैं इस भाव के सामने .प्रेम बाँटने से बढ़ता है..
जहाँ
तक रजत की बात है वह मोह माया से परे है..हर रिश्ते को जीता हुआ भी उससे निर्लिप्त .और तुम भी अपने को इतना क्यूँ बाँध रही हो.. हर क्षण को खुले मन से स्वीकार करो.. जो तुम्हें मिलना है उसे तुम रोक नहीं सकती जो तुम्हारा नहीं उसे तुम पा नहीं सकती.. जो भी है बस यही एक पल है.. जी लो इस पल में. बस इतना ध्यान हमें रखना होता है कि हम किसी को कष्ट ना पहुंचाएं..
रेवती
ने कहा-"पर यह तो गलत है ना ..समाज की नज़रों में ."
चंद्रप्रभा जी ने कहा -" समाज क्या है ? और सही गलत किसने बनाएं हैं.?.हाँ मैं मानती हूँ कि व्यवस्था बनाये रखने के लिए समाज ने कुछ नियम बनाये हैं..पर वो किन परिस्थितियों में बने और किस प्रकार के जनसमूह के लिए बने वह जान लेना आवश्यक है..अगर सामाजिक व्यवस्था नहीं होगी तो व्यभिचार ,अनाचार फैल जाएगा ..परन्तु एक स्वस्थ मन-मस्तिष्क वाला इंसान समाज की भेड़ चाल से खुद को अलग करके सोच सकता है और उसके क्रियाकलापों से समाज का कोई अहित नहीं हो रहा तो वह अपनी भावनाओं का दमन क्यूँ करे.. समाज की दुहाई देना हिपोक्रेसी है ..मुझे ही देखो ना..समाज की किसी सोच से मेरा व्यक्तित्व मेल नहीं खाता ..स्वयं के लिए जीती हूँ स्वयं के निर्णय लेती हूँ किसी का अहित नहीं सोचती..और भरसक प्रयत्न करती हूँ दूसरों को ख़ुशी बांटने के लिए .अविवाहित रहने का निर्णय इसीलिए लिया क्यूंकि मेरे इस व्यक्तित्व को समझने वाला पुरुष मिला नहीं कभी .और शायद ऐसे पुरुष होते भी बहुत ही कम हैं .रजत उनमें से एक है ..सामाजिक जिम्मेदारी के साथ साथ व्यक्तिगत स्वतंत्रता का संतुलन हर किसी के बस की बात नहीं होती उसके लिए बहुत दृढ चरित्र और व्यक्तित्व चाहिए होता है . "
रेवती चंद्रप्रभा जी की बातों को ध्यान से सुन और समझ रही थी..सही कह रही हैं वह..उसने हमेशा अपनी इस भावना को हीन दृष्टि से ही देखा है ..और जितना वह इसको दबाने ,छुपाने का प्रयत्न करती है उतना ही जैसे भावना मुखरित हो उठती है..
. . पिछली बार जब स्नेहा आई थी तब वह कह गयी थी माँ से -" माम यु आर इन लव ..आँखों से दिखता है आपकी ..आई एम् हैप्पी फार यू.."
कितनी बड़ी बड़ी बातें करती है ये नन्ही सी नेही..मतलब सब कुछ सबको दिख रहा है और मैं ही खुद को इजाज़त नहीं दे रही हूँ इस घटित प्रेम को स्वीकारने की ..
.. अपनी इन भावनाओं के दमन के कारण शिखा जी के सामने भी वह सहज नहीं रह पाती..जबकि शिखा जी कितनी सहज हैं..कितना स्नेह करती हैं उससे और स्नेहा से.. और रजत भी स्नेहा के लिए जैसे कुछ भी करने को तत्पर रहते हैं..
रेवती ने महसूस किया कि जबसे उसने अपने हर भाव को स्वीकारना शुरू किया है तबसे उसकी उत्कंठा कम होती जा रही है..और वह आतंरिक तौर पर बहुत शांत महसूस कर रही है ..एक स्त्री की यह आतंरिक यात्रा वह स्नेहा से ज़रूर बांटेगी ..एक माँ होने के नाते नहीं बल्कि एक नारी के नाते..उसके अनुभव उसकी बेटी की राह प्रशस्त कर सकें इससे ज्यादा सुकून उसे क्या होगा ..
रेवती 'दृष्टि' से एक कार्यकर्त्ता के तौर पर जुड़ गयी थी ..कितना कुछ है करने के लिए.. वह सोचा करती थी कि हम घर में बैठे सरकार के कार्यों की समीक्षा करते हुए देश की बदहाली का रोना रोते रहते हैं..पर आगे बढ़ कर अपने से कमजोर वर्ग के उत्थान के बारे में क्यूँ सोच नहीं पाते ..शिखा जी, रजत जी, और चंद्रप्रभा जी के सान्निध्य में उसने बहुत कुछ सीखा बहुत कुछ बांटा ..जब किसी की बुझती उम्मीदों में उसके प्रयासों से आशा की किरण जगमगा जाती थी तब उसे जैसे असीम सुख की अनुभूति होती थी ..'दृष्टि' द्वारा संचालित एक प्राथमिक शिक्षा केंद्र में उसने शिक्षिका बनना स्वीकार किया.. और बच्चों को किताबी ज्ञान के साथ साथ जीवन का दर्शन भी बता कर उनमें एक सुदृढ़ चरित्र का निर्माण करने का प्रयास करना उसको असीम संतोष से भर जाता.ज़िन्दगी का अर्थ मिलने लगा था उसे..
समय बीतते देर नहीं लगती..स्नेहा ने बी.. पूरा कर के सिविल सर्विसेस का एक्साम भी दे दिया था और इस समय रेवती के पास कर रिजल्ट का इंतज़ार कर रही थी .रेवती और स्नेहा में खूब बातें होती थी..स्नेहा माँ के हृदय को समझती थी .एक दिन उसने पूछा - "माँ, प्रेम का इज़हार या प्रतिकार ना होने पर कुछ अधूरा नहीं लगता क्या ? "
रेवती ने मुस्कुरा कर कहा -'प्रेम तो एक स्थिति है जो घटित होती है किसी भी जीवन में.बाह्य परिस्थितियां कभी कभी कारण बन जाती हैं उस स्थिति के घटित होने का ..परन्तु यह तो स्वयं में विद्यमान है..प्रेम एक दैवीय भावना है जो हृदय को विस्तार देती है ..प्रेम का एहसास होने के बाद दुनिया की हर शै का मतलब ही बदल जाता है जैसे.. तब यह दुनिया मानवीय दुनिया ना लग कर ईश्वरीय दुनिया लगने लगती है ..और उस दुनिया को हम अपने प्रयासों से कैसे बेहतर बना सकते हैं इसकी ऊर्जा हमें वह आतंरिक प्रेम देता है "
उसने आगे कहा -" जीवन में सबसे ज़रूरी है खुद के प्रति ईमानदार रहना..तुम इस सूत्र को याद रखो..बस.. जिस प्रोफेशन में तुम जाना चाहती हो वहां बहुत बाधाएं आएँगी पर खुद से ईमानदारी तुम्हें संबल देगी उन बाधाओं को पार करने के लिए.."
स्नेहा उस एक महीने में बहुत कुछ अर्जित कर चुकी थी माँ से.. रिजल्ट आशानुरूप ही था ..और उसका सेलेक्शन आई..एस .के लिए हो गया ..जोरदार सेलीब्रेशन हुआ..संजय भी आये थे. उनके तो कदम ज़मीं पर नहीं पड़ रहे होजैसे.. रजत ,शिखा ,चंद्रप्रभा जी इतने खुश थे जैसे उनकी बेटी का ही सेलेक्शन हो गया हो..रेवती की तपस्या सार्थक हुई ..स्नेहा को एक सम्पूर्ण व्यव्क्तित्व बनाने में उसकी अपनी यात्रा का भी कम योगदान नहीं रहा ..लाल बहादुरशास्त्री एकेडेमी में स्नेहा को ट्रेनिंग के दौरान शिशिर मिला ..जिसको उसने जीवनसाथी के रूप में चुन लिया ..दोनों एक दूसरे के पूरक नज़र आते थे ..शिशिर का व्यक्तित्व और सोचें काफी कुछ रजत से मिलती थी ..रेवती जानती थी की वह स्नेहा को पूर्ण नारीत्व प्रदान करने में समर्थ होगा ..शिशिर के माता पिता से मिल कर सब बातें तय हो गयी और दोनों की फर्स्ट पोस्टिंग से पहले ही दोनों को दाम्पत्य सूत्र में बाँध देने का निर्णय ले लिया गया ..संजय को बहुत छुट्टी नहीं मिलनी थी इसलिए विवाह की पूरी जिम्मेदारी रजत और शिखा ने अपने कंधो पर ले ली संजय चाहता था कि अब रेवती उसके पास आबूधाबी रहे ..पर रेवती को अपनी ज़िन्दगी का मकसद मिल चुका था 'दृष्टि' से जुड़ने के बाद वह उससे दूर नहीं रह सकती थी.. उसने संजय से कहा भी कि बहुत कमा लिया अब पैसा.. तुम्ही क्यूँ नहीं वापस जाते.. संजय इस पर चुप हो गया ..
देखते देखते शादी का समय गया ..संजय एक हफ्ता पहले पाया था शादी के.... संजय ने स्नेहा से पूछा कि उसे पापा कि ओर से क्या स्पेशल गिफ्ट चाहिए ..पैसों कि चिंता ना करे ..बस अपनी इच्छा बता दे.. स्नेह मुस्कुराउठी, बोली- "पापा , जीवन की हर ख़ुशी पैसों से नहीं खरीदी जा सकती.. आप ही सोचो क्या आप खुश महसूस करते हो ..इतना पैसा होने के बाद भी "
संजय चकित सा बेटी को देखता रह गया ..मुस्कुराते हुए बोला - 'माँ ने खूब घुट्टी पिलाई है "
और दोनों हंस पड़े ..और स्नेहा ने पिता से कहा -पापा,आप मुझे कुछ देना चाहते हो तो माँ को अपना साथ देदो..एक साथी की तरह ..तथाकथित पति कि तरह नहीं , उसके अन्दर छुपी औरत को सम्पूर्ण कर दो अपने साथ से..बस यही मेरे विवाह का तोहफा होगा आपकी तरफ से .."
संजय ने स्नेहा को गले से लगा लिया और कहा -मेरी बेटी तो मुझसे भी बड़ी हो गयी है ,मैं समझ गया हूँ ..इतने सालों मैंने भी कोशिश की है खुद को जानने समझने की..मैं वापस आऊंगा बहुत जल्द ..जैसे ही भारत में मुझे नौकरी मिलती है.. पैसे की अब कोई इच्छा नहीं रह गयी है..तुम लोगों के पास रहना चाहता हूँ अब.. थक गया हूँ इस दोहरी ज़िन्दगी से .."
रेवती पीछे खड़ी यह सब सुन रही थी.. ख़ुशी से उसके आंसू छलक आये .. और संजय ने रेवती और स्नेहा दोनों को अपने आगोश में ले लिया.. रेवती का सपना आज पूर्ण हुआ था जैसे.."

संजय की आवाज़ सुन कर रेवती अतीत से वर्तमान में लौटी.. संजय रजत के साथ खड़े थे और कह रहे थे -" अरे भाई बेटी के जाने का इतना ग़म की रजत और शिखा जी को भी भूल गयी तुम !! " ..रेवती मुस्कुरा दी ..बोली-" शायद थकन के कारण आँख लग गयी थी ." संजय ने कहा कि बाहर का सब काम सिमट चुका है.. अभी कॉफ़ी वाले को कह कर आया हूँ गर्मागर्म कॉफ़ी भेजने को..चलो मुंह धो कर आओ ..रेवती मुस्कुराती हुई उठ गयी..कितना हल्का महसूस कर रही थी वह ..वही जानती है.. जीवन की एक नयी शुरुआत .. कितनी अदभुत यात्रा है यह भी .....
और अनजाने में रेवती गुनगुना उठी -
इन दिनों दिल मेरा ,मुझसे ये कह रहा
तू ख्वाब सजा ,तू जी ले ज़रा
है तुझे भी इजाज़त,कर ले तू भी मोहब्बत ..

रेवती समझ चुकी थी कि ज़िन्दगी जीने के लिए किसी की इजाज़त की ज़रुरत नहीं होती..सिवाय अपने दिल के ....

और इस तरह रेवती और स्नेहा की कहानी ने यहाँ एक नया मोड़ लिया .... .................
आशा है अब तक की यात्रा आप सबको पसंद आई होगी..
(समाप्त)
.. '

Tuesday, March 30, 2010

है तुझे भी इजाज़त...(छठी किस्त)

चाय पीते हुए रेवती ने संजय से पूछा -"आप चलेंगे मेरे साथ? "

संजय ने कहा -"नहीं,मुझे कुछ दोस्तों से मिलने जाना है .तुम जाओ "

रेवती का मन हुआ कि जिद करे चलने के लिए..परन्तु ऐसा अधिकार उसने समझा ही नहीं था कभी और जिद करके ले जाने का भी क्या औचित्य , यदि संजय का अपना मन नहीं है .संजय अपनी ख़ुशी से चलेगा तो उसको भी आनंद आएगा .उधर संजय चाह रहा था कि रेवती उससे मनुहार करे और वह उस पर एहसान दिखता हुआ उसके साथ जाए.. जब वार्तालाप सहज नहीं होता तब ऐसे ही दोनों अपने मन में बातों को रोक लेते हैं और वही बातें ग्रंथियां बन जाती है..कितने चेहरे लगा लेते हैं दो इंसान एक ही छत के नीचे रहते हुए भी...

गाड़ी ठीक बजे गयी थी और रेवती कार्यक्रम के लिए निकल गयी ।चंद्रप्रभा जी उसका इंतज़ार ही कर रही थी पहुँचते ही सबसे पहले उन्होंने उसे 'दृष्टि" नामक एन .जी . के ट्रस्टी श्री रजत मेहता जी से मिलवाया .जाने माने उद्योगपति हैं॥"दृष्टि" की स्थापना उन्ही ने करी थी और आज यह संस्था सिर्फ रूडकी ही नहीं पूरे उत्तराखंड अंचल में ज़रूरतमंदों की सहायता के लिए जानी जाती है ..दूरदराज क्षेत्रों में शिक्षा मुहैया करना चिकित्सा सुविधा पहुँचाना कितने ही बेघर लोगों को घर और बेरोजगारों को रोजगार मुहैया कराये हैं इन्होने. . हृदय से कलाकार और बहुत ही डायनामिक व्यक्तित्व के स्वामी ..रेवती पर उनके व्यक्तित्व का असर पहली ही नजर में हो गया..ऊर्जा से भरपूर एक विनम्र व्यक्तित्व पैसा होने का घमंड कहीं छू भी ना गया हो जैसे..सौम्य मुस्कराहट स्नेहयुक्त तरल आँखें और गरिमापूर्ण भावभंगिमा ..उसके सामने हाथ जोड़ कर नमस्कार की मुद्रा में खड़े थे और कह रहे थे- "कल आपका गायन सुना ..तभी चंद्रप्रभा जी से अनुरोध किया था आपको यहाँ बुलाने का ..ऐसे ऐसे हीरे छुपे हैं हमारे शहर में हमें तो मालूम ही नहीं था " रेवती बस मुस्कुरा कर रह गयी .चंद्रप्रभा जी उन दोनों को वार्तालाप में व्यस्त छोड़ क्षमा मांग दूसरे इंतज़ामात देखने चली गयी रेवती सोच रही थी कि यहाँ हर इंसान कितना सहज है किसी की भी उपस्थिति से जरा भी बेचैनी नहीं होती .एक सुकून सा रहता है मन में .
रजत ने रेवती को सोच में डूबा देख कर पूछ लिया ॥और रेवती ने सहज भाव से अपनी सोच उजागर कर दी॥ रजत बहुत जोर से हंस पड़े ..बोले-"यही तो बात है रेवती जी, इंसान दुनियावी जद्दोजहद में इतना उलझ जाता है कि ऐसे सुकून के पल उसको आश्चर्य लगने लगते हैं ..जबकि इंसान सबसे ज्यादा सुकून इसी सहजता में महसूस करता है अब मुझे ही देखिये ना..आधी ज़िन्दगी बीत जाने के बाद अब लगता है जैसे ज़िन्दगी को जी रहा हूँ ..पिता का कारोबार इतना फैला हुआ था कि एम् .बी.ए करने के बाद उसी में जुड़ गया ..व्यवसायिक कुशलता में कोई कमी नहीं थी व्यवसाय दिनोदिन बढ़ोतरी पर था पर कुछ था जो मुझे खालीपन का अहसास कराता था .बचपन से गिटार बजाने का शौक पता नहीं पढाई और व्यवसाय में कहाँ छूट गया .इंसान हर काम के लिए समय निकल लेता है या यूँ कहें कि इतने कामों में उलझा लेता है खुद को कि स्वयं के लिए उसके पास समय नहीं रह जाता ..जबकि मेरा अनुभव है कि यदि हम कुछ पल अपने लिए निकाल लेते हैं तो उन पलों में संचय की गयी ऊर्जा हमें बाकी कामों को और बेहतर तरीके से करने में मदद करती है ..मन में जब बहुत उपद्रव होने लगा तो ध्यान विधियाँ अपनाई मैंने .मन शांत होना शुरू हुआ तो अपनी अंतरात्मा की आवाज़ सुनाई देने लगी॥ खुद को ही तो खोज रहा था मैं..'स्व' की खोज में 'अहम्' व्यवधान बना हुआ था ..आगे पीछे लोगों की भीड़ झूठी तारीफें अवसरवादिता चाटुकारिता ..इन सबमें मेरा 'स्व' कहीं दब गया था जिसके कारण मुझे घुटन हो रही थी ..दिन के २४ में से २० घंटे व्यवसाय के बारे में सोचते उनको क्रियान्वित करते निकल जाते थे सामाजिक तौर पर बहुत सफल इंसान था पर खुद की नज़रों में असफल .चेतना जागृत हुई तो खुद को समेटना शुरू किया..दिन में कम से कम घंटे स्वयं के लिए निश्चित किये..जब मैं सिर्फ अपने साथ रह सकूँ..और ऊर्जा संचित होने लगी..
उस ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग मुझे बहुत सुकून देता है .आप पैसे के मामले में कितने भी सफल क्यूँ ना हों..जब तक मानसिक शांति और संतोष नहीं है एक इंसान के रूप में आप असफल ही हैं..और वह मानसिक शांति आपको अपनी आत्मा से प्राप्त होती है..पर इंसान उसे बाहर ही खोजता है..और भटकता है॥ जैसे कस्तूरी की खोज में मृग..अपने पैशन को भुला कर कोई भी कार्य करने में इंसान कभी संतुष्ट नहीं होता ..और यदि उसका पैशन ही उसका काम बन जाए तो वो सफलता की बुलंदियों को छू लेता है..जैसे सचिन तेंदुलकर ,लता जी,हुसैन साहब ,अमिताभ बच्चन जी आदि...हम आम इंसान यही सोच लेते हैं की उनके जैसा बनना हमारी किस्मत में नहीं ..और इसी सोच के चलते हम अपने को खोजना बंद कर देते हैं॥ हर इंसान विलक्षण है..कुछ ना कुछ उसमें ऐसा ज़रूर है जो उसे पूरी दुनिया से अलग करता है बस उसी को खोजना है॥ और उसी की खोज एक अनवरत यात्रा बन जाती है..उस यात्रा में बहुत कुछ ऐसा होता है जो मन को सुकून देता है..ऐसा लगता है की ईश्वर ने हमें भेजा है इस धरती पर तो हमसे कुछ ख़ास काम की अपेक्षा है उसे॥ और उसी प्रेरणा के तहत मैं अपने मन के अनुसार जितना योगदान कर सकता हूँ .इस समाज के लिए करता हूँ ..मुझे ख़ुशी है कि कई उच्चा शिक्षा प्राप्त लोग जुड़ गए हैं 'दृष्टि' से जो निस्वार्थ भाव से अपना योगदान दे रहे हैं समाज को.ईश्वर की कृपा से पैसे की कमी कभी नहीं पड़ी हमें..और हम सफल हो रहे हैं ऐसी पौध तैयार करने में जो आगे चल कर घने छायादार वृक्ष बन सकेंगे .यही आत्मिक संतुष्टि है ..'मैं अकेला ही चला था जानिबे मंज़िल मगर ..लोग साथ आते गए और कारवां बनता गया " ..यह तो ऐसी ही यात्रा है..

तभी सामने से एक महिला आती नज़र आई ॥और रजत जी ने कहा -"लीजिये, आपको अपनी श्रीमती जी से मिलवाता हूँ..ये हैं मेरी जाने तम्मना गुले गुलज़ार जाने बहार शिखा और यह सुर-कोकिला रेवती जी " शिखा खिलखिला कर हंस पड़ी ..और कहा - "ये ' वक़्त ' पिक्चर का संवाद खूब चुराया है आपने " और फिर रेवती की तरफ मुखातिब हो कर बोली -"आपसे मिल कर बहुत ख़ुशी हुई, कल रजत ने तो आपकी तारीफों के पुल बाँध दिए थे और तभी से उत्कंठा थी आपसे मिलने की "..
रेवती इस स्वागत से सम्मोहित थी..कितना अपनापन कोई नाटकीयता नहीं ..कितनी उन्मुक्तता है यहाँ हर सम्बन्ध में ..
ये सब बातें हो ही रही थी कि कार्यक्रम के संचालक की आवाज़ माइक पर गूँज गयी॥ और सबका ध्यान उधर ही चला गया ..रेवती रजत जी की बातों से अभिभूत थी ..और उनको आत्मसात करने की कोशिश में थी..कार्यक्रम के बाद रजत जी ने उसको सधन्यवाद विदा देते हुए फ़ोन नम्बर्स का आदान प्रदान किया ..और कहा -" आशा है अब आप भी हमारी सांस्कृतिक संस्था की रेगुलर सदस्य जल्द ही बनेंगी" ..रेवती बस मुस्कुरा दी॥ और घर चली आई॥

संजय घर पर ही था टी.वी देख रहा था .. रेवती का प्रफुल्लित चेहरा देख कर एक अजीब सी कचोट का एहसास हुआ उसे..और उसने उसकी उत्फुल्लता को नज़रंदाज़ करके अपना आक्रोश जता दिया॥ पर रेवती जिस ऊर्जा का संचय करके वहां से लौटी थी उसने इस बात को नोटिस नहीं करने दिया..सही बात है..जब हम स्वयं सकारात्मक ऊर्जा से भरे होते हैं तब किसी का नकारात्मक दृष्टिकोण हमें प्रभावित नहीं कर पता ..और उसके कारण होने वाला ऊर्जा का क्षय रुक जाता है॥ गुनगुनाती हुई रेवती खाने की तयारियों में जुट गयी..यन्त्रचालित सी काम कर रही थी पर उसका मस्तिष्क आज शाम होने वाली घटनाओं का पुनरावलोकन कर रहा था.रह रह कर रजत जी का व्यव्क्तित्व नज़रों के सामने घूम जाता और उनकी सहजता ..कितने खुले मन से सब बताते जा रहे थे, चंद्रप्रभा जी हों या रजतजी..ऐसा लगता है जैसे हमेशा दूसरों को राह दिखाने के लिए तत्पर रहते हैं..द्वन्द में फंसे व्यक्तियों को द्वन्द से बाहर आने का रास्ता . और शिखा जी भी कितना पारदर्शी व्यक्तित्व रखती हैं..चंद्रप्रभा जी तो अविवाहित हैं पर शिखा जी विवाह के बन्धनों में जैसे जकड़ी हुई महसूस ही नहीं होती ..पर वह खुशकिस्मत हैं कि उनको रजत जी जैसे पति मिले हैं ..इन्ही सब सोचों में डूबे कब खाना बन गया पता ही नहीं चला
खाने की टेबल सजा कर उसने संजय को बुलाया ॥संजय का खिंचा हुआ चेहरा थोड़ी देर के लिए उसे सहमा गया पर जल्द ही उससे उबर कर वह उससे एक महीने के कार्यक्रम के बारे में पूछने लगी..रेवती ने कहा -"माँ पिता जी आपके आने की बाट जोह रहे हैं..उनसे मिले हुए कितने दिन हो गए ..कब चलेंगे उनसे मिलने ?'
संजय के माता पिता ऋषिकेश में स्वर्गाश्रम के नजदीक बने फ्लैट्स में रहते थे ..उनका जीवन वहां बहुत आन्नद पूर्वक बीत रहा था ..प्रकृति का साथ ..गंगा का किनारा स्वच्छ निर्मल जलवायु.. संजय के पिता को लेखन का शौक था अक्सर उनकी आध्यात्मिकता पर लिखी रचनायें 'अखंड ज्योति " या 'साधना पथ' जैसी पत्रिकाओं में छपती रहती थी .रेवती को उनका साथ और ऋषिकेश की जलवायु बहुत पसंद थी ..उसने संजय को कह कर १० दिन के लिए ऋषिकेश जाने का कार्यक्रम बना लिया.. अगले शनिवार इतवार स्नेहा जायेगी तब तक हम लौट आयेंगे ..
बातों का विषय दूसरी तरफ मुड जाने से संजय की तनी हुई मुखमुद्रा कुछ सहज हुई..और रेवती ने भी राहत की सांस ली ..
अगले दिन दोनों ऋषिकेश के लिए निकल पड़े..वहां के प्राकृतिक वातावरण में रेवती को बहुत सुकून मिला..मनप्राण जैसे निर्मल हो उठे ..गंगा किनारे बैठ कर सुबह शाम वह सुरों का अभ्यास करती रहती ..और खुद को खुद के और नज़दीक पाती..एक अनजानी ऊर्जा से भरती जा रही थी वह॥ उसे अब संजय के कटाक्ष भी कम आहत करने लगे थे हर समय मुस्कराहट खिली रहती उसके मन पर ऐसा लगता था .बीच बीच में चंद्रप्रभा जी से और रजत जी से बात हो जाया करती थी फ़ोन पर..उन्होंने उसको सूचना दी थी कि महीने के आखिरी शनिवार को एक गेट टुगेदर का आयोजन किया है जिसमें कई साहित्यिक और सांस्कृतिक कलाकार शामिल होंगे ..रेवती को सबसे मिलने का मौका मिलेगा इसलिए वह उसमें आने का कार्यक्रम ज़रूर बना ले ..रेवती ने सब कुछ समय पर छोड़ दिया था .रजत जी से जितना वह बात करती थी उतना ही उनकी तरफ खिंचाव महसूस करती थी और फिर खुद को ही लानत मलानत करती थी..पर उसके हृदय पर जैसे उसका काबू नहीं रह गया था ..सोचों में हर समय रजत जी का रहना और उनके फ़ोन का इंतज़ार करना उसकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया था ..
अगला हफ्ता स्नेहा के साथ कैसे बीत गया पता ही नहीं चला १८ साल पार कर चुकी स्नेहा अभी भी रेवती के सामने बच्ची बन जाती थी ॥हाँ इस बार उसकी चुहल थोडा अलग किस्म की थी..जैसे ही घर में घुसी रेवती को देखते ही बोली-वाओ!!! माम..क्या बात है॥ यू आर लुकिंग यंग !! ग्लोइंग फेस ..स्पार्कलिंग आईस ..फीलिंग टु फाल इन लव विद यू !!!
रेवती ने हँसते हुए उसे गले से लगा लिया और कहा -शैतान कहीं की..मजाक करना सीख गयी है माँ से ॥!!"
स्नेहा ने कहा-" नहीं माम ..आई एम् सीरियस .."
रेवती ने कहा -"अच्छा आराम से बात करेंगे. आते ही शुरू हो गयी पागल .."

और फुर्सत मिलते ही रेवती ने अपने सिरे पर हुए डेवलपमेंट्स बताये और बताया कि वह इस फेज़ को बहुत एन्जॉय कर रही है..स्नेहा बहुत खुश हुई ..चंद्रप्रभा जी और रजत जी जैसे दोस्त बना कर माँ बहुत खुश है यह उसे सुकून दे गया ..रेवती ने उसे गेट टुगेदर में साथ चलने को कहा और वह भी बहुत उत्सुक थी उन दोनों से मिलने केलिए ..

शनिवार की शाम तीनो ही उस गेट टुगेदर में साथ चले रेवती खुश थी कि संजय अपने मन से उसके साथ चल रहा है..हालाँकि संजय का शौक नहीं था उन सब विधाओं में ..पर वह भी उत्सुक था जानने के लिए कि कैसे लोगों से रेवती मिलती जुलती है ..एक कम्युनिटी सेंटर के खूबसूरत लान में छोटे छोटे वृतों में कुर्सियां लगा रखी थी..और सब अपने अपने ग्रुप बना कर चर्चाएं कर रहे थे .बड़ा बेतकल्लुफी वाला माहौल था ..खुशनुमा लोग खुशनुमा माहौल कोई लीपा पोती नहीं कोई नाटकीयता नहीं..हवाओं में भी जैसे हंसी के स्पंदन तैर रहे थे ..स्नेहा तो बहुत ही प्रभावित हुई ,संजय भी अछूता नहीं रह पाया उस प्राकृतिक माहौल से थोड़ी देर में वह भी सहज महसूस करने लगा ..चंद्रप्रभा जी और रजत जी ने संजय और स्नेहा का बहुत ही गर्मजोशी से स्वागत किया ..पूरी शाम आनंदमयरही और भिन्न भिन्न विषय पर चर्चाएं होती रही..जिस ग्रुप में चंद्रप्रभा जी रेवती, शिखा ,संजय, रजत जी थे उसमें विवाह और स्त्री पुरुष संबंधों पर विमर्श चल निकला..संजय और रेवती हतप्रभ से सभी लोगों के विचार सुन रहे थे..जिन विषयों पर बोलना सभ्य समाज में शालीन नहीं समझा जाता उस पर वहां कितनी उन्मुक्तता से विचारविमर्श किया जा रहा है ..रेवती को चुप देख कर शिखा ने उसे कहा-" तुम भी तो कुछ कहो क्या सोचती हो समाज में नारी की स्थिति के बारे में ?".रेवती तो जैसे हकला सी गयी..क्या कहे वह..बातों का सूत्र पकड़ा रजत ने ..और उसने कहा-'यह विषय हमेशा से डिबेट का विषय रहा है..नारी जाति का शोषण इतना पुराना हो गया है कि नारी स्वयं अपनी पहचान खोती जा रही है ..इस सन्दर्भ में मैं यशपाल जी की किताब 'चक्कर क्लब' में लिखा हुआ ये अंश उद्धृत करना चाहूँगा - "भारत में क्या होता था सो हमें भी मालूम है. हिन्दुओं कि स्मृतियों में लिखा है, "स्त्री शूद्र नाधीयताम" अर्थात स्त्री और शूद्र को पढ़ाना नहीं चाहिए. वज़ह, स्त्री और शूद्र को पढ़ाया जायेगा तो वह सेवा के काम में नहीं रहेंगे, दलील करने लगेंगे. बैल को आप बाजीगरी का खेल सिखाईये तो वह हल थोड़ा ही जोतेगा॥कहेगा, मैं अपनी इच्छा से काम करूँगा और मालिक की बराबरी का दावा करेगा।"
इतना सुन कर सब हंस पड़े..स्त्री कि बराबरी बैल से..और चर्चा चल पड़ी नारी भावनाओं की..उसके शारीरिक और भावनात्मक समन्वय की..रेवती यह देख कर हैरान थी कि स्नेहा इस विमर्श में खुले मन से हिस्सा ले रही थी ..और उसके विचार जान रेवती को ख़ुशी थी कि उसने अपने मन को प्रतिबंधित नहीं किया है ही उसके मन में किसी भी बात का कोई टैबू है..जैसा कि रेवती के मन में हुआ करता था ..ग्रंथियां नहीं हैं ..ओशो , अमृता प्रीतम ,मंटो, इस्मत जैसे कितने ही साहित्यकारों कि चर्चाएं हुई.शिखा ने कहा -यह कन्यादान की परंपरा भी यही बताती है की स्त्री को एक जीता जगता इंसान नहीं एक वस्तु समझा जाता रहा है ..दान तो किसी वस्तु का ही होता है ना
. जिस वस्तु का दान किया जा सकता है, उसकी इच्छा या अनिच्छा का, उसकी स्वतंत्रता का प्रश्न ही नहीं उठ सकता. स्वयंवर किया जाता होगा परन्तु वह स्त्री को स्वतंत्रता देने के लिए नहीं, बल्कि इसलिए कि वीर पुरुष आपस में औरत के लिए झगडे नहीं. स्वयंवर के मैदान में औरत को कौड़ी की तरह उछाल फेंका, जिस के भाग्य में जा पड़ी उसकी किस्मत ! उसमें लड़ने झगड़ने कि कोई बात नहीं." चंद्रप्रभा जी ने कहा-हाल ही में अमृता जी का एक लेख पढ़ा "कड़ी धूप का सफ़र" ..उन्होंने नारी जाति की वर्तमान स्थिति किस तरह घटित हुई होगी उस पर चर्चा की है .एक समय था जब नारी को शक्ति का स्वरुप माना जाता था ..पुरुष और नारी का अपना अपना वजूद मिल कर दोनों को पूर्ण करता है..फिर वक़्त आया जब अर्धनारीश्वर का फलसफा खो गया...और दासता पैदा हुई. शिव शक्ति जैसा चिंतन खो गया तो जड़ता पैदा हुई. शक्ति खो गयी--तो उसके प्रतिक्रम में खौफ पैदा हुआ. धर्म खो गया तो उसके प्रतिक्रम में मज़हब पैदा हुआ. आत्मा खो गयी---तो शरीर एक वस्तु बन गया बेचने और खरीदने कि वस्तु ॥ "
चर्चाएं गरम हो उठी थी..सबके अपने अपने वर्सन ..

रेवती ने इन सबको पढ़ा नहीं था पर चर्चा का विषय देख उसने इन सबको पढने का मन बना लिया ..वहां के खुले वातावरण में रेवती का मन जैसे खुल गया था॥ शालीनता और हिपोक्रेसी का फरक उसे साफ़ समझ रहा था॥ सहज स्वाभाविक जीवन से जुडी बातों को असभ्य कह कर हम कौन सी शालीनता का परिचय दे रहे होते हैं ? और स्वाभाविकता का दमन विकारों को जन्म देता है ग्रंथियां बन जाती हैं..वह भी क्या अपनी भावनाओ का दमन नहीं कर रही ..??
इन्ही सब सोच विचार में डूबती उतरती वह घर को लौट आई..अंतर्मन में जैसे हलचल मच गयी थी॥ अपने अन्दर छुपी नारी को जानने की तीव्र उत्कंठा ..शायद इसी एहसास की बात रजत जी कर रहे थे '' स्व " की खोज ..
और उसने रजत जी और चंद्रप्रभा जी के सहयोग से वह सारा साहित्य पढ़ डाला जो उसकी सोचों को दृढ़ता प्रदान कर सकता था ..ख़ास तौर पर ओशो साहित्य। .ओशो को उसने हमेशा दुनिया की नज़रों से जाना था॥ एक विद्रोही के रूप में॥ पर अब उनको पढ़ कर जाना की वह आत्मिक चेतना जागृत हुए इंसान का जीता जगता उदहारण थे और उन्होंने अपने संदेशों में यही आवाहन किया है ..स्नेहा से भी उसके विमर्श होते रहते और अपनी समझ और अनुभव के बल पर उसने स्नेहा को भी एक दृढ सोच का आधार दिया..
(क्रमश:)
.. . , .. . .. ..